Sun, Scorpio & Nifty

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य एक ग्रह है, हालाँकि यह सत्य नहीं है परन्तु जब हम पृथ्वी से सूर्य को देखते है तो हमें ऐसा प्रतीत होता है कि सूर्य पृथ्वी के चारों और चक्कर लगा रहा है इसलिए सूर्य को प्रतीती ग्रह की संज्ञा में रखा गया है और ज्योतिष शास्त्र में इसे पूर्ण ग्रह का दर्जा प्राप्त है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य सम्पूर्ण राशिचक्र का चक्कर 1 साल में पूर्ण करता है, इस प्रकार से यह प्रतीती ग्रह एक राशि में एक माह तक के लिए रहता है। चूँकि यह ग्रह कभी वक्री नहीं होता इसलिए इसकी गति भी सामान रहती है और एक निश्चित समयावधि के बाद एक राशि से दूसरी राशि में चला जाता है।

परन्तु क्या आप जानते है कि निफ्टी के संभावित भविष्य को हम सूर्य के राशि विचरण के आधार पर भी आंकलित कर सकते है ? मैं यहाँ आपको एक प्रत्यक्ष प्रमाण देने जा रहा हूँ। इसे ध्यान से पढ़ें और समझने की चेष्टा करते हुए अपनी निफ्टी ट्रेंडिंग में इसका उपयोग करें।

जैसा कि मैंने आपको पहले बताया कि सूर्य एक राशि में लगभग एक माह के लिए ही रहता है, इसी प्रकार से जब सूर्य राशि विचरण करते हुए वृश्चिक राशि में प्रवेश करता है तब निफ्टी पर एक विशेष प्रभाव देखने को मिलता है। यह प्रभाव नकारात्मक होता है। यह नकारत्मक प्रभाव निफ्टी में मंदी करता है।

जब सूर्य अकेले या फिर मार्गी बुद्ध के साथ वृश्चिक राशि से गुजरता है, तो निफ्टी में मंदी देखने को मिलती है। परन्तु यदि बुद्ध वक्री अवस्था में वृश्चिक राशि में संयोग बनाये, तो उस समय यह मंदी देखने को नहीं मिलती वहीं यदि शनि पहले से ही वृश्चिक राशि में हो और उस समय सूर्य भी वृश्चिक राशि में प्रवेश करे तो पहले मंदी होगी परन्तु जब सूर्य शनि से मात्र 3 अंश दूर हो, तो तेजी आने लगती है और जब वह फिर से शनि के साथ युति बना ले और उसके बाद 3 अंश आगे चला जाए तो फिर से मंदी आ जाती है।

यहाँ ध्यान देने योग्य बात है कि यदि गुरु के साथ सूर्य कोई युति बनाये, तो भी एक संभावित तेजी देखने को मिल जाती है कुछ इसी प्रकार से मंगल के साथ बने योग से भी देखने को मिला है। यहाँ एक बात का ध्यान रखना अत्यंत ही आवश्यक है, कि शुक्र का सूर्य के साथ बना योग इस मंदी को नहीं आने देता।

इस योग की बारीकीयाँ समझने के लिए मेरे द्वारा लिखित पुस्तक “निफ्टी एस्ट्रो एनालिसिस” को अवश्य पढ़ें उसमें मैंने सभी बारीकियों को लिखा है वहीं मैंने उसमें 1990 से लेकर 2013 के सभी चार्टों का विश्लेषण भी किया है।

मैं इस लेख के साथ दो अन्य चार्ट और भी दे रहा हूँ, जिस अवधि में सूर्य वृश्चिक राशि में विचरण कर रहा था।

CH 001
2015
CH 002
2016